Agro Haryana

property rights : नॉमिनी और उत्तराधिकारी है ये अंतर, अधिक्तर लोगों को नहीं है पता

property rights :  आप जानते है कि नॉमिनी और उत्तराधिकारी में क्या अंतर होता है, अगर नहीं जानते है तो यह खबर आपके लिए है। आज हम आपको बताएंगे कि नॉमिनी और उत्तराधिकारी ये अंतर है और यह अंतर अधिक्तर लोगों को नहीं पता है। आइएखबर में जानते है इसके बारे में विस्तार से-
 | 
property rights : नॉमिनी और उत्तराधिकारी है ये अंतर, अधिक्तर लोगों को नहीं है पता
Agro Haryana Digital Desk- नई दिल्ली : वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने हाल ही में बैंकों से कहा था कि वह खातों में नॉमिनी का नाम जरुर दर्ज करें. नॉमिनी ना होने की वजह से बैंकों के पास करोड़ों रुपये लावारिस पड़े हुए हैं. 

दरअसल, जिन खाताधारक की मौत हो जाती है उनका पैसा नॉमिनी को ट्रांसफर कर दिया जाता है. ऐसे में एक सवाल उठता है कि क्या केवल नॉमिनी ही खाताधारक के जाने के बाद उनकी संपत्ति का अधिकारी होता है. अगर ऐसा है तो फिर उत्तराधिकारी या वारिस कौन होते हैं.

आज हम नॉमिनी और उत्तराधिकारी के अंतर पर ही बात करेंगे. नॉमिनी किसी एक खास उद्देश्य के लिए बनाया जाता है. यह किसी को भी बनाया जा सकता है.

 उत्तराधिकारी वैसे तो वंश या परिवार के सदस्य ही होते हैं लेकिन अगर कोई शख्स चाहें तो वह अपना उत्तराधिकारी अपनी मर्जी से परिवार के बाहर भी किसी शख्स को बना सकता है. 

इन दोनों में बातों में एक मुख्य अंतर ये है कि नॉमिनी का नाम दर्ज नहीं होने पर बैंक खुद-ब-खुद किसी को नॉमिनी नहीं घोषित कर सकता है. 

हालांकि, अगर किसी शख्स ने अपना उत्तराधिकारी तय नहीं किया है तब भी उसके बच्चे, पत्नी या मां उसकी संपत्ति की उत्तराधिकारी हो सकती है.

WhatsApp Group Join Now

Around The Web

Latest News

Trending News

You May Also Like