Agro Haryana

इस तरीके को अपनाकर अपने पर्सनल लोन की EMI को कर सकते है कम, आप भी जान लें ये तरीका

Personal Loan EMI  : आज के समय में लगभग लोग अपनी जरुरतों को पूरा करने के लिए बैंकों से लोन लेते है. लेकिन पर्सनल लोन सबसे महंगा होता है इसकी ईएमआई समय पर नहीं चुका पाते है.इस वजह बैंक उन पर पेनल्टी लगा देता है. इसी के चलते हम आपको एक ऐसा तरीका बताने जा रहे है जिसमें आप अपने पर्सनल लोन की EMI को कम कर सकते है. तो आइए जानते है नीचे खबर में-
 | 
 इस तरीके को अपनाकर अपने पर्सनल लोन की EMI को कर सकते है कम, आप भी जान लें ये तरीका 

Agro Haryana Digital Desk- नई दिल्ली : अच्छे बुरे दिन किसमें नहीं आते है। ऐसे में कई बार बुरे वक्त के चलते लोगों को लोन का सहारा लेना पड़ जाता है, लेकिन आर्थिक स्थिति ठीक ना होने के कारण लोग इसकी एमी से परेशान हो जाते हैं।

बताया जाता है कि लोन (Loan) में सबसे ज्यादा महंगा पर्सनल लोन (Personal Loan) है। हैरानी की बात ये है कि सबसे ज्यादा लोग पर्सनल लोन (Personal Loan) ही लेते हैं।

अपनी जरूरतों को पूरा करने या फिर आपात स्थिति में पर्सनल लोन काफी मददगार साबित होता है। इसमें कोई गारंटी नहीं देनी होती है।

इसके अलावा यह बाकी लोन की तुलना में काफी आसानी से मिल भी जाता है। हालांकि, इसमें सबसे ज्यादा ब्याज दर से ईएमआई (EMI) का भुगतान करना होता है।

ऐसे में ईएमआई को कैसे कम करें इसको लेकर हम कई उपाय भी ढूंढते हैं। आज हम आपको कुछ तरीकों के बारे में बताएंगे जिनकी मदद से आप भी अपना ईएमआई का बोझ कम कर सकते हैं।

समझदारी से Loan चुने

कई बार लोग कुछ ऐसे कामों के लिए पर्सनल लोन ले लेते हैं, जहां कि वो पर्सनल लोन की जगह दूसरा सस्ता लोन ले सकते हैं। दरअसल, पर्सनल लोन आसानी से मिल जाता है, इस वजह से कई लोग इसे सेलेक्ट करते हैं।

उदाहरण के तौर पर अगर आप घर रिपेयर करवाने के लिए लोन लेने का सोच रहे हैं तो आपको होम लोन ही लेना चाहिए। अगर आप इसके लिए पर्सनल लोन लेते हैं तो आपको ये बहुत महंगा पड़ेगा।

Loan लेने के बाद EMI कम कैसे करें

आपके पास पर्सनल लोन है और आप ईएमआई से परेशान हो गए हैं तो आपके पास लोन शिफ्ट करने का ऑप्शन है। आप अपने लोन को दूसरे बैंक में शिफ्ट करके कम ब्याज का लाभ उठा सकते हैं।

इसके अलावा लोन प्रीपेमेंट (Loan Prepayment) को सेलेक्ट कर सकते हैं। लोन प्रीपेमेंट में आपके लोन का प्रिंसिपल अमाउंट कम हो जाता है और ईएमआई का अनुपात भी कम होने के साथ लोन का टेन्योर भी कम हो जाएगा।  

WhatsApp Group Join Now

Around The Web

Latest News

Trending News

You May Also Like