Agro Haryana

PPF या बैंक एफडी में से किसमें मिलता है टैक्स बेनिफट, टैक्सपेयर्स जान लें जरुर

PPF Vs FD : अगर आप टैक्स के दायरे में आते है तो यह खबर आपके काम की है। अक्सर लोग टैक्स बचाने के तरीके ढूंढ़ते है। लोगों में कंफ्यूजन रहती है कि टैक्स बचाने के लिए PPF या बैंक एफडी में से कौन सा ऑप्शन बेस्ट है। आइए जानते है इन दोनों के बारे में- 
 | 
PPF या बैंक एफडी में से किसमें मिलता है टैक्स बेनिफट, टैक्सपेयर्स जान लें जरुर
Agro Haryana, Digital Desk-नई दिल्ली : एफडी के कुछ नुकसान भी हैं लेक‍िन पीपीएफ इनकम टैक्‍स से राहत देता है. एफडी क‍िसी भी शख्‍स के टैक्‍स स्लैब के अनुसार म‍िलने वाले ब्याज पर टैक्‍स के अधीन है. 

लेक‍िन एफडी का रिटर्न हमेशा महंगाई को मात नहीं दे सकता है. यानी आपकी सेव‍िंग का वास्तविक मूल्य समय के साथ गिरने का जोख‍िम है. एफडी पर सरकार की तरफ से गारंटी नहीं दी जाती. लेक‍िन पीपीएफ पर सरकार की तरफ से गारंटी दी जाती है.

कई टैक्‍सपेयर सेवान‍िवृत्‍त‍ि और अपनी योजनाओं को ध्‍यान में रखकर न‍िश्‍च‍ित आय, टैक्‍स सेव‍िंग निवेश के ल‍िए पीपीएफ चुनते हैं. टैक्‍स एक्‍सपर्ट का कहना है कि पब्‍ल‍िक प्रॉव‍िडेंट फंड ऐसे लोगों के लिए बेस्‍ट है जो टैक्‍स सेव‍िंग और सुरक्षित निवेश विकल्प के साथ लंबी अवध‍ि के ल‍िए बचत की तलाश में हैं. 

वहीं एफडी ज्‍यादा फ्लेग्जिबिलिटी देती है. यह निवेशकों के लिए अच्‍छा ऑप्‍शन है. कुल म‍िलाकर पीपीएफ में लॉन्‍ग टर्म में न‍िवेश करना होगा और एफडी में ऐसा नहीं है.

पीपीएफ में इनवेस्‍टमेंट करने पर आयकर अधिनियम के सेक्‍शन 80सी के तहत टैक्‍स कटौती के लिए योग्य है. यानी आपकी टैक्‍स देनदारी में इसमें न‍िवेश से कटौती हो जाती है. 

लेक‍िन पीपीएफ की मैच्‍योर‍िटी पर ब्याज और आपको म‍िलने वाली राश‍ि टैक्‍स फ्री है. सैलरीड क्‍लॉस के ल‍िए यह टैक्‍स सेव‍िंग के ल‍िहाज से आकर्षक स्‍कीम है.

पीपीएफ पर मौजदूा ब्‍याज दर जुलाई-सितंबर तिमाही के लिए 7.1 प्रतिशत है. लेक‍िन टैक्‍स सेव‍िंग एफडी पर एसबीआई (SBI) 6.50 प्रतिशत की ब्‍याज दे रहा है.

यदि आप लंबी अवधि के लिए कम ब्याज दर पर एफडी करते हैं तो ब्‍याज दर बढ़ने पर आपको नुकसान होगा. इस कारण पीपीएफ पांच साल की टैक्‍स सेव‍िंग एफडी के मुकाबले बेहतर र‍िटर्न देता है.

एफडी की ब्याज दरें पूरी निवेश अवधि के दौरान स्थिर रहती हैं. वहीं, पीपीएफ की ब्याज दर फ्लोटिंग है जो हर तिमाही में बदल सकती है.

पीपीएफ में कंपाउंडिंग का फायदा म‍िलता है. यह अकाउंट 15 साल में मैच्‍योर होता है. मैच्‍योर‍िटी के बाद आप पैसा न‍िकालकर खाता बंद कर सकते हैं या न‍िवेश जारी रखने के ल‍िए इसे पांच-पांच साल की अवध‍ि में बढ़ा सकते हैं.

WhatsApp Group Join Now

Around The Web

Latest News

Trending News

You May Also Like