Agro Haryana

UP News : यूपी के इस शहर में नौकरी से बर्खास्त होंगे 45 कर्मचारी, वजह जानकर उड़ जाएगा होश

UP News : उत्तर प्रदेश में एक साथ 45 सरकारी कर्मचारियों को बर्खास्त करने के बाद पूरे प्रदेश में हड़कंप मच गया. दरअसल इन कर्मचारियों ने 100 बेड टीबी अस्पताल के आउटसोर्सिंग कर्मचारियों की बायोमेट्रिक हाजिरी के नाम पर अनाप-शनाप वेतन कटौती का विरोध करना महंगा पड़ गया चलिए जानते हैं...
 | 
यूपी के इस शहर में नौकरी से बर्खास्त होंगे 45 कर्मचारी

Agro Haryana, New Delhi : एयरपोर्ट स्थित 100 बेड टीबी अस्पताल के आउटसोर्सिंग कर्मचारियों को बायोमेट्रिक हाजिरी के नाम पर अनाप-शनाप वेतन कटौती का विरोध करना भारी पड़ गया। सेवा प्रदाता फर्म ने एक साथ सभी 45 कर्मचारियों को बर्खास्त कर दिया है।

यही नहीं, फर्म ने स्वास्थ्य विभाग से अनुबंध भी एकतरफा खत्म कर दिया। सेवा प्रदाता फर्म ने ईमेल कर कर्मचारियों को बर्खास्तगी की सूचना दी। फर्म के इस कदम से हड़कंप मचा हुआ है। हलकान कर्मचारी वरिष्ठ अधिकारियों से गुहार लगा रहे हैं। 

रविवार को आउटसोर्सिंग कर्मियों ने ड्यूटी की। हालांकि, उन्होंने हाजिरी नहीं लगाई। बताया जा रहा है कि एयरपोर्ट स्थित 100 बेड टीबी सह सामान्य अस्पताल में आउटसोर्सिंग पर 45 कर्मचारी तैनात हैं।

इनमें से ज्यादातर नर्स व वार्ड ब्वॉय हैं। ये कर्मचारी फरवरी वर्ष 2016 से आउटसोर्सिंग पर तैनात हैं। पहले इनकी तैनाती अवनी-परिधि के जरिए हुई थी। जुलाई 2021 से उनकी सेवा प्रदाता फर्म बदलकर दिल्ली की चींटी इंटरप्राइजेज कर दी गई।

फर्म के अधिकारियों ने शनिवार की रात कर्मचारियों को ईमेल किया। इसमें उन्हें अनुशासनहीन बताते हुए बर्खास्त कर दिया गया। कर्मचारियों का फोन रिसीव नहीं किया। बाद में स्वीच ऑफ कर दिया।

बायोमेट्रिक हाजिरी से शुरू हुईं मुश्किलें

बताया जा रहा है कि फर्म ने छह महीने पहले से बायोमेट्रिक हाजिरी शुरू कर दी। इसके लिए अस्पताल के अंदर एक बायोमेट्रिक मशीन लगी है।

सिर्फ आउटसोर्सिंग कर्मचारियों की ही बायोमेट्रिक हाजिरी ली जा रही हैं। खबर है कि जब से बायोमेट्रिक हाजिरी शुरू हुई, कर्मचारियों का मानदेय नहीं मिला था। इसे लेकर कर्मचारी हलकान थे।

बीती आठ फरवरी को खाते में चार महीने का मानदेय आया। उसमें भी बायोमेट्रिक हाजिरी के नाम पर मनमानी कटौती हो गई। कर्मचारियों को चार हजार से लेकर 30 हजार रुपये तक कम मानदेय मिला है।

फर्म ने इस कटौती की वजह बायोमेट्रिक हाजिरी का रिकॉर्ड माना है। इसी का कर्मचारी विरोध कर रहे थे। उन्होंने मानदेय कटौती की तस्दीक कराने की मांग की। यही विवाद की जड़ भी है।

टीबी अस्पताल के सीएमएस डॉ. एके वर्मा का कहना है कि किसी कर्मचारी को बाहर नहीं होने दिया जाएगा। अस्पताल में चिकित्सकों के बाद यही कर्मचारी हैं। इन्हीं के भरोसे अस्पताल में मरीज भर्ती हैं। सोमवार को ऑफिस आकर फर्म से संपर्क करूंगा। फर्म का फैसला स्वीकार नहीं है। 

Around The Web

Latest News

Trending News

You May Also Like