Agro Haryana

Tax Rule Changes: 1 अप्रैल से टैक्स से जुड़े इन नियमों होगा बड़ा बदलाव, आप के लिए जानना है बेहद जरुरी

Tax Rule Changes: नए वित्त वर्ष के साथ टैक्स से जुड़े नियमों में कई बदलाव होते है। हाल ही में मिली अपडेट के अनुसार 1 अप्रैल से टैक्स से जुड़े इन नियमों में बड़ा बदलाव होगा। इन बदलावों का असर आम आदमी पर पड़ता है। आइए नीचे खबर में जान लेते है कि टैक्स से जुड़े नियमों के बदलाव से आपको फायदा हो होगी या नुकसान-
 | 
Tax Rule Changes: 1 अप्रैल से टैक्स से जुड़े इन नियमों होगा बड़ा बदलाव, आप के लिए जानना है बेहद जरुरी

Agro Haryana, Digtal Desk- नई दिल्ली: मार्च के महीने के आखरी दिन चल रहे है यह महीना इस वित्त वर्ष (New Financial year) का आखरी महीना है और इसी के साथ वित्त वर्ष 2023-24 खत्म होने जा रहा है.

हर सेक्टर के लिए यह महीना काफी महत्वपूर्ण माना जाता है खासकर टैक्सपेयर्स के लिए, क्योंकि 1 अप्रैल से नए वित्त वर्ष के साथ ही कई बदलाव होते हैं जो आम से लेकर हर खास आदमी पर डालते हैं.

1 अप्रैल से इनकम टैक्स (Income tax Rule) के कई नियम बदल जाएंगे. टैक्सपेयर्स होने के नाते आपको इन बदलाव की जानकारी होना बेहद जरूरी है. इस बार 1 अप्रैल से नए और पुराने टैक्स रिजीम से जुड़े नियम भी लागू होने वाले हैं।

अगर आपको अभी तक इन बदलावों के बारे में पता नहीं है तो हम आपको यहां बताने जा रहे हैं कि कौन-कौन से वो नियम हैं जिनमें बदलाव होने जा रहा है और टैक्स से जुड़े किन बदलावों से आपको फायदा हो सकता है और किनसे नुकसान।

नया टैक्स रिजीम होगा डिफॉल्ट

यदि आपने अभी पुरानी टैक्स व्यवस्था (Old Tax Regime) और नई टैक्स व्यवस्था (New Tax Regime) में से कोई नहीं चुना है, तो जल्दी अपनी सहूलियत के हिसाब से टैक्स फाइल करने का तरीका  अभी चुन लीजिए। अगर आप 31 मार्च तक कोई दोनों में कोई व्यवस्था नहीं चुनते, तो आप ऑटोमैटिक न्यू टैक्स रिजीम में चले जाएंगे।

मतलब नया टैक्स रिजीम हो जाएगा डिफॉल्ट। नई टैक्स रिजीम (new tax regime) में आपको 7 लाख रुपये तक की कमाई पर कोई कर नहीं देना होगा। लेकिन, अगर आप निवेश करके टैक्स बचाना चाहते हैं, आपके लिए पुराना टैक्स रिजीम बेहतर हो सकता है।

न्यू टैक्स रिजीम में होगा स्टैंडर्ड डिडक्शन 

बता दें कि पहले ओल्ड टैक्स रिजीम (old tax regime) में 50 हजार रुपये का स्टैंडर्ड डिडक्शन लागू था। अब इसमें न्यू टैक्स रिजीम में शामिल कर दिया गया है। स्टैंडर्ड डिडक्शन के तहत 50 हजार रुपये पर टैक्स छूट मिलती है, मतलब कि आप अपनी सैलरी से बिना कुछ सोचे-समझे 50 हजार रुपये कम कर सकते हैं।

यह आपकी टैक्सेबल इनकम को कम कर देता है। इस छूट से कुछ लोगों को इतना फायदा हो जाता है कि इनकम टैक्स एक्ट के सेक्शन 87ए की रिबेट के साथ उन पर कोई टैक्स नहीं लगता। 5 लाख रुपये से कम की टोटल कुल कमाई वालों को 87A 12,500 रुपये तक की छूट मिल जाती है।

प्राइवेट नौकरी वालों को होगा यहां टैक्स में फायदा

यदि आप प्राइवेट सेक्टर में नौकरी करते हैं और कम छुट्टियां लेते हैं, तो आपको छुट्टियों के बदले मिलने वाले पैसों पर ज्यादा टैक्स की छूट मिलने वाली है।

पहले अगर कोई गैर-सरकारी कर्मचारी अपनी बची छुट्टियों के बदले कंपनी से पैसा लेता था, तो बस 3 लाख रुपये तक की रकम ही टैक्स-फ्री होती थी। लेकिन, अब यह लिमिट 25 लाख रुपये तक कर दी गई है।

इतने करोड़ से अधिक कमाई वालों का ज्यादा बचेगा टैक्स

आपको जानकर हैरानी होगी कि 1 अप्रैल से 5 करोड़ रुपये से अधिक की सालाना आमदनी वालों को भी तगड़ा फायदा होगा। सरकार ने 5 करोड़ से अधिक की आमदनी पर लगने वाले सरचार्ज में 12 फीसदी की कमी की है।

पहले यह 37 फीसदी था, जो 1 अप्रैल से 25 फीसदी हो जाएगा। हालांकि, यह फायदा उन्हीं लोगों को मिलेगा, जो नई टैक्स (new tax systum) व्यवस्था को चुनेंगे।

बीमा पॉलिसी की मैच्योरिटी इनकम पर भी टैक्स

नए नियमों के मुताबिक अब जीवन बीमा पॉलिसी (life insurance policy) से मिली मैच्योरिटी इनकम पर टैक्स देना होगा। इसका एलान वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने किया है।

जो भी पॉलिसी 1 अप्रैल 2023 या उसके बाद जारी हुई हैं, वो इस नियम के दायरे में आएंगी। हालांकि, यह टैक्स उन्हीं लोगों को देना होगा, जिनका कुल प्रीमियम 5 लाख रुपये से अधिक होगा।

WhatsApp Group Join Now

Around The Web

Latest News

Trending News

You May Also Like