Agro Haryana

RBI: बैंक से डिफॉल्टरों को आरबीआई की बड़ी राहत, मिले ये अधिकार

Loan Rule: अगर आप किसी बैंक से लोन लेते हैं और अगर वो आप लोन नहीं चुका पाते हैं तो बैंक उसको डिफाल्टर घोषित कर देता है। वहीं इस पर RBI ने बैंक डिफाल्टरों को बड़ी राहत दी है। बैंक का लोन नहीं भरने वाले लोगों को ये अधिकार मिले हुए हैं। तो चलिए जानते हैं इनके बारे में-
 | 
RBI: बैंक से डिफॉल्टरों को आरबीआई की बड़ी राहत, मिले ये अधिकार

Agro Haryana: डिजिटल डेस्क नई दिल्ली, हाल ही में भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने एक चेतावनी नोट जारी किया जिसमें खुदरा असुरक्षित ऋणों से जुड़े जोखिमों पर प्रकाश डाला गया था. 

आरबीआई की चिंताओं को मान्य करते हुए, क्रेडिट इंफॉर्मेशन ब्यूरो (इंडिया) लिमिटेड (CIBIL) की रिपोर्ट यह भी बताती है कि दिसंबर 2022 को समाप्त तिमाही के लिए पर्सनल लोन और क्रेडिट कार्ड, जो काफी हद तक असुरक्षित हैं, सबसे तेजी से बढ़े. लेकिन अधिक चिंताजनक बात यह है कि इस श्रेणी में पर्सनल लोन के मामले में चूक पूर्व-कोविड स्तरों की तुलना में बढ़ी है.

 लोन पेमेंट-

ऐसे में सबसे बड़ा सवाल ये है कि अगर आप डिफॉल्टर हैं तो आप आगे क्या करेंगे? यह कई लोगों के लिए बहुत तनावपूर्ण अनुभव हो सकता है जो नहीं जानते कि लोन वसूली एजेंटों के जरिए उत्पीड़न को कैसे संभालना है. 

डिफॉल्टर होने से क्रेडिट हेल्थ पर नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है, जिससे क्रेडिट स्कोर कम हो सकता है और ब्याज दरें बढ़ सकती हैं. बैंकों को डिफॉल्ट मामलों को सहानुभूति के साथ संभालना चाहिए और व्यक्तिगत समाधान पेश करना चाहिए. 

वहीं डिफॉल्टर के कानूनी अधिकारों में नोटिस प्राप्त करना, उचित लोन वसूली प्रथाएं, शिकायत निवारण, कानूनी सहायता मांगना और निष्पक्ष क्रेडिट रिपोर्टिंग शामिल है. आइए जानते हैं कि लोन न चुका पाने की स्थिति में डिफॉल्टर के पास क्या कानूनी अधिकार रहते हैं और उन्हें क्या-क्या स्टेप्स फॉलो करने चाहिए.

1) क्या आरबीआई के दिशानिर्देशों से डिफॉल्टरों के दिलों में कोई राहत की सांस आई है?

आरबीआई की गाइडलाइंस से डिफॉल्टरों को कुछ राहत जरूर मिली है. वे डिफॉल्टरों को अपने लोन का पुनर्गठन करने और छोटे भुगतान करने की अनुमति देते हैं, जिससे उन्हें वित्तीय रूप से अपने पैरों पर वापस आने में मदद मिल सकती है. दिशानिर्देश लंबी पुनर्भुगतान अवधि का भी प्रावधान करते हैं, जिससे डिफॉल्टरों के लिए अपने लोन का प्रबंधन करना आसान हो सकता है.

उदाहरण के लिए मान लीजिए कि आप पर 10 लाख का कर्ज है जिसे आप चुकाने में असमर्थ हैं. आरबीआई दिशानिर्देशों के तहत, आप लोन का पुनर्गठन कर सकते हैं ताकि आपको अब केवल 5 लाख का भुगतान करना होगा और शेष 5 लाख लंबी अवधि में चुकाए जाएंगे. इससे आपके लिए अपने कर्ज का प्रबंधन करना और आर्थिक रूप से पटरी पर वापस आना आसान हो सकता है.

2) क्या डिफॉल्टर होने से आपके क्रेडिट हेल्थ पर असर पड़ता है, कैसे?

डिफॉल्टर होने से आपके क्रेडिट हेल्थ पर महत्वपूर्ण प्रभाव पड़ सकता है. आपके क्रेडिट स्कोर में कमी आने की संभावना है, जिससे भविष्य में लोन के लिए स्वीकृत होना अधिक कठिन हो सकता है. आपको लोन पर अधिक ब्याज दरें भी चुकानी पड़ सकती हैं. 

ऐसा इसलिए है क्योंकि ऋणदाता एक उधारकर्ता के रूप में आपके जोखिम का आकलन करने के लिए आपके क्रेडिट स्कोर का उपयोग करते हैं. यदि आपका क्रेडिट स्कोर कम है, तो ऋणदाता आपको उच्च जोखिम के रूप में देखेंगे और आपको उधार देने की संभावना कम हो सकती है.

मान लीजिए कि आपका क्रेडिट स्कोर 750 है. यह एक अच्छा क्रेडिट स्कोर माना जाता है और आप अपेक्षाकृत कम ब्याज दरों वाले लोन के लिए स्वीकृत होने में सक्षम होंगे. हालांकि, अगर आपका क्रेडिट स्कोर 600 तक गिर जाता है तो आपको जोखिम भरा उधारकर्ता माना जाएगा और आपको लोन पर उच्च ब्याज दरों का भुगतान करना पड़ सकता है.

3) जब डिफॉल्ट मामलों से निपटने की बात आती है तो बैंकों को कोई सलाह?

जब डिफॉल्ट मामलों को संभालने की बात आती है, तो  बैंकों को सलाह दी जाती है कि वे सहानुभूति और समझ के साथ स्थिति से निपटें. यह पहचानना महत्वपूर्ण है कि व्यक्तियों को वित्तीय चुनौतियों या अप्रत्याशित परिस्थितियों का सामना करना पड़ सकता है जो डिफॉल्ट का कारण बनती हैं. टकरावपूर्ण दृष्टिकोण अपनाने की बजाय, बैंक एक खुला और सहायक वातावरण बनाने का प्रयास कर सकते हैं.

4) वे स्टेप्स क्या हैं जिनका चूककर्ता को पालन करना चाहिए?

खुदरा लोन पर डिफॉल्ट  का सामना करते समय डिफॉल्टर के लिए स्थिति को संबोधित करने के लिए तत्काल कार्रवाई करना महत्वपूर्ण है. यहां कुछ स्टेप्स दिए गए हैं जिन पर डिफॉल्टर को विचार करना चाहिए:

- स्थिति का आकलन करें.

- ऋणदाता के साथ संवाद करें.

- वित्तीय स्थिति का मूल्यांकन करें.

- पुनर्भुगतान योजना पर बातचीत करें.

- व्यावसायिक सहायता लें.

- भुगतान को प्राथमिकता दें.

- क्रेडिट स्कोर को सुरक्षित रखें.

- ऋण पुनर्गठन या निपटान का अन्वेषण करें.

5) डिफॉल्टर्स के लिए कानूनी अधिकार क्या हैं?

भारत में डिफॉल्टरों के कानूनी अधिकारों को कानून और नियामक ढांचे के जरिए व्यापक रूप से संरक्षित किया जाता है. हाल ही में भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने बैंकों और वित्त कंपनियों को जानबूझकर चूक करने वालों या धोखाधड़ी के रूप में वर्गीकृत खातों पर समझौता निपटान या तकनीकी राइट-ऑफ करने का निर्देश दिया.

इसका तात्पर्य यह है कि एक जानबूझकर अपराधी या धोखाधड़ी में शामिल कंपनी को अब उनके खिलाफ आपराधिक कार्यवाही के कारण ऋणदाताओं के जरिए पूर्वाग्रह का सामना नहीं करना पड़ेगा. इसके अतिरिक्त, जिन उधारकर्ताओं ने समझौता समझौता कर लिया था, उनके पास अब कम से कम 12 महीने की न्यूनतम अवधि के बाद नए लोन के लिए आवेदन करने का अवसर है.

Around The Web

Latest News

Trending News

You May Also Like