Agro Haryana

Jewar Airport: इन 14 गांवों की जमीनों को मिलाकर UP में होगा एयरपोर्ट का निर्माण, यहां देखें लिस्ट

Jewar Airport: मिली जानकारी के मुताबिक बता दें कि जेवर में बन रहे नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट के लिए जमीन अधिग्रहण का काम 4 चरणों में किया जाएगा। इसके लिए 14 गांवों की जमीनों का निर्माण किया जाएगा। तो आइए नीचे खबर में जानते है इसके बारे में पूरी डिटेल...    

 | 
इन 14 गांवों की जमीनों को मिलाकर UP में होगा एयरपोर्ट का निर्माण, यहां देखें लिस्ट 

Agro Haryana, Digital desk- नई दिल्ली: यूपी के जेवर मे नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट का काम प्रग्रति पर है. इसका एयरपोर्ट के निर्माण का आधा काम पूरा हो चुका हैं। 

उम्मीद के अनुसार 2024 में इसका पहला रनवे बनकर तैयार हो जाएगा। पहले रनवे से विमान अपनी उड़ान भर सकते है। इसके दुसरे, तीसरे और चौथे तरम को पूरा करने की तैयारी भी शुरु की जा चुकी है।

इसके तीसरे और चौथे चरण के काम को पूरा करने के लिए भूमि अधिग्रहण का काम शुरु किया जा चुका है। इस एयरपोर्ट के निर्माण के लिए 14 गांवों की 2053 हेक्टेयर जमीन का अधिग्रहण किया जाएगा।

इस परियोजना के अनुसार युपी में 3 रनवे बनाए जाएंगे। इस परियोजना के निर्माण के लिए सरकार गांव वालों को 15 हजार करोड़ तक का मुआवजा देने वाली है। 

यूपी सरकार ने जारी किया नोटिफिकेशन

यमुना प्राधिकरण से मिली जानकारी के मुताबिक, जेवर में बन रहे नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट के लिए जमीन अधिग्रहण का काम 4 चरणों में किया जाना था।

जिनमें से पहले चरण में 1334 हेक्टेयर और दूसरे चरण में 1365 हेक्टेयर जमीन का अधिग्रहण हुआ। अब, तीसरे और चौथे चरण के लिए एक साथ 2053 हेक्टेयर जमीन का अधिग्रहण किया जाएगा। उत्तर प्रदेश सरकार ने नोटिफिकेशन जारी कर दिया है।

14 गांव की 2053 हेक्टेयर जमीन का होगा अधिग्रहण

खास बात है कि सोशल इंपैक्ट असेसमेंट के लिए अधिसूचना जारी कर दी गई है। इसके जरिए यह पता लगाया जाएगा कि इससे कितने किसान प्रभावित होंगे, उनसे कितनी भूमि अर्जित की जाएगी, उनके पुनर्वास और मुआवजे का क्या आकलन होगा।

इसके लिए गौतम बुद्ध विश्वविद्यालय का चयन किया गया है। इससे पहले दो चरणों के लिए सोशल इंपैक्ट असेसमेंट जीबीयू ने किया था। इस काम को 30 अगस्त तक पूरा करना होगा।

जानकारी के मुताबिक 14 गांव की 2053 हेक्टेयर जमीन का अधिग्रहण होना है। इसमें 1888 हेक्टेयर जमीन किसानों की है और करीब 165 हेक्टेयर जमीन सरकारी है।

इन 14 गावों की जमीन ली जाएगी: नीमका- शाहजहांपुर, ख्वाजपुर, रामनेर, किशोरपुर, बनवारीबास, पारोही, मुकीमपुर सिवारा, जेवर बांगर, साबौता मुस्तफाबाद, अहमदपुर चौरौली, दयानतपुर, बंकापुर और रोही।

 

Around The Web

Latest News

Trending News

You May Also Like