Agro Haryana

नोएडा में फ्लैट खरीदने वाले लोगों के लिए आई खुशखबरी, 10 साल बाद अब होगी रजिस्ट्री

Noida news: अगर आप भी नोएडा जैसे शहर में फ्लैट खरीदने का सपना देख रहे है। तो ये खबर खास आपके लिए ही है। क्योंकि नोएडा में हाउसिंग सोसाइटी का निर्माण होने के बावजूद लोग रजिस्ट्री के लिए काफी परेशान हो रहे थे। अब उनके फ्लैटों की रजिस्ट्री होने का रास्ता साफ कर दिया है। तो आइए नीचे खबर में इस बारे में अधिक जानें... 
 | 
नोएडा में फ्लैट खरीदने वाले लोगों के लिए आई खुशखबरी, 10 साल बाद अब होगी रजिस्ट्री
Agro Haryana, New Delhi: नोएडा और ग्रेटर नोएडा में काफी संख्या में ग्रुप हाउसिंग सोसाइटी का निर्माण हो चुका है। इनमें रहने वाले लोग पूरा पैसा देने के बावजूद रजिस्ट्री के लिए जूझ रहे हैं। लेकिन, अब यहां के निवासियों की उम्मीद जागी है। संभावना जताई जा रही है कि शीघ्र ही उनके आशियाने की रजिस्ट्री हो जाएगी।

दिवालिया हुई लॉजिक्स इंफ्रास्टक्चर प्राइवेट लिमिटेड कंपनी ने सेक्टर-137 में लॉजिक्स ब्लॉसम काउंटी प्रोजेक्ट का निर्माण किया था। यहां पर करीब 1500 से अधिक फ्लैट खरीदार रजिस्ट्री के इंतजार में हैं।

परियोजना में आईआरपी की नियुक्ति कर दी गई है। अब खरीदारों को रजिस्ट्री का रास्ता साफ होने की उम्मीद जताई जा रही है। आपको बता दें कि जिन खरीदारों के फ्लैट की अभी तक रजिस्ट्री नहीं हुई है, उन्हें अब पूरा ब्योरा आईआरपी की ओर से बनाए गए पोर्टल पर अपलोड करना होगा।

450 फ्लैट की रजिस्ट्री-

लॉजिक्स काउंटी के निवासी नरेश शर्मा ने बताया कि 2459 में से करीब दो हजार फ्लैट में लोग रह रहे हैं। इनमें से करीब 450 फ्लैट की ही रजिस्ट्री हुई है। जबकि करीब 1500 फ्लैट में रह रहे लोग रजिस्ट्री के इंतजार में हैं।

अंतिम बार 2018 में परियोजना में फ्लैट की रजिस्ट्री हुई थी। इसके 10 में से सात टावर का प्राधिकरण से अधिभोग प्रमाण पत्र नहीं मिला है। लॉजिक्स ब्लॉसम काउंटी परियोजना को लॉजिक्स बिल्डर ने साल 2010 में लॉन्च किया था। इसमें 2013 तक कब्जा मिलना था, लेकिन 2015-16 में मिलना शुरू हुआ।

ये भी हुए दिवालिया-

लॉजिक्स ब्लॉसम काउंटी परियोजना से पहले कुछ और बिल्डर की एक दर्जन से अधिक परियोजनाएं पहले ही दिवालिया हो चुकी हैं। इनमें सुपरटेक बिल्डर की इको विलेज-1 सोसाइटी भी शामिल है।

इसके अलावा अजनारा इंडिया की सात परियोजनाएं शामिल हैं। अजनारा बिल्डर की सिक्बल बिल्डकॉन कंपनी की ही सेक्टर-79 में अजनारा द बिल्डविडर परियोजना भी दिवालिया हो चुकी है।

इसके अलावा कुछ और बिल्डर की परियोजनाएं दिवालिया हो चुकी हैं, जिनमें आईआरपी काम कर रहे हैं। हजारों खरीदारों के फ्लैट अटक गए।

Around The Web

Latest News

Trending News

You May Also Like