Agro Haryana

FASTag Rule: वाहन चालकों के लिए जरूरी खबर, अब एक व्हिकल से जुड़ेगा एक फास्टैग

FASTag: भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण से मिली जानकारी से वाहन चालकों के लिए खबर सामने आई है, जिस मुताबिक आपको बता दें कि कल यानि सोमवार से‘एक व्हीकल, एक फास्टैग’नियम लागू हो गया है। इस नियम के तहत अब एक व्हिकल से सिर्फ एक फास्टैग जुड़ेगा। चलिे जानते हैं इसके बारे में विस्तार से-
 | 
वाहन चालकों के लिए जरूरी खबर, अब एक व्हिकल से जुड़ेगा एक फास्टैग
Agro Haryana, Digtal Desk- नई दिल्ली: भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (NHAI) का ‘एक व्हीकल, एक फास्टैग’ नियम सोमवार से लागू हो गया है. इसका उद्देश्य कई व्हीकल्स के लिए एक फास्टैग के इस्तेमाल या एक व्हीकल से कई फास्टैग जोड़ने को खत्म करना है. 

एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि अब एक व्हीकल पर एक से ज्यादा फास्टैग नहीं लगाए जा सकेंगे. उन्होंने कहा, ‘‘जिन लोगों के पास एक व्हीकल के लिए कई फास्टैग हैं, वह एक अप्रैल से उनका इस्तेमाल नहीं कर पाएंगे.’’ 

NHAI ने पेटीएम फास्टैग का इस्तेमाल करने वाले व्हीकल मालिकों की समस्याओं को देखते हुए ‘एक व्हीकल, एक फास्टैग’ पहल के अनुपालन की समयसीमा 31 मार्च तक बढ़ा दी थी. 

इसके जरिये प्राधिकरण कई व्हीकलों के लिए एक ही फास्टैग के इस्तेमाल पर लगाम लगाने के साथ कई फास्टैग को किसी खास व्हीकल से संबद्ध करने पर रोक लगाना चाहता है. 

इलेक्ट्रॉनिक टोल कलेक्शन सिस्टम की एफिशिएंसी बढ़ाने और टोल प्लाजा पर बेहतर आवाजाही के लिए NHAI ने ‘एक व्हीकल, एक फास्टैग’ पहल शुरू की है.

भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने पेटीएम की सहयोगी यूनिट पेटीएम पेमेंट्स बैंक लिमिटेड (पीपीबीएल) के ग्राहकों और कारोबारियों को 15 मार्च तक अपने खाते दूसरे बैंकों में ट्रांसफर करने की सलाह दी थी.  

बता दें कि फास्टैग की पहुंच लगभग 98 प्रतिशत व्हीकलों तक है और इसके आठ करोड़ से ज्यादा यूजर्स हैं. फास्टैग भारत में टोल कलेक्शन की इलेक्ट्रॉनिक व्यवस्था है और इसका संचालन NHAI करता है. 

फास्टैग में सीधे टोल मालिक से जुड़े प्रीपेड या बचत खाते से टोल भुगतान करने के लिए रेडियो फ्रीक्वेंसी आइडेंटिफिकेशन (आरएफआईडी) तकनीक का इस्तेमाल होता है.

FASTags की मदद से टोल प्लाजा पर कैशलेस पेमेंट हो पाता है. इससे वाहन चालकों को टोल प्लाजा पर कम समय लगता है और पेमेंट के लिए इंतजार नहीं करना पड़ता या कम इंतजार करना पड़ता है.

WhatsApp Group Join Now

Around The Web

Latest News

Trending News

You May Also Like