Agro Haryana

DA Hike: सरकारी कर्मचारियों की बल्ले-बल्ले, सैलरी में होगा 40 हजार का इजाफा

DA Hike: सरकार ने केंद्रीय कर्मचारियों के लिए एक ताजा अपडेट जारी कर दिया है। जिसके मुताबिक अब सरकारी कर्मचारियों का लंबे समय का इंतजार खत्म होने वाला है। दरअसल, केंद्रीय कर्मचारियों की सैलरी में 40 हजार का इजाफा होने वाला है। जिसके लिए सरकार ने घोषणा कर दी है। तो आइए नीचे खबर में अधिक जानें...
 | 
सरकारी कर्मचारियों की बल्ले-बल्ले, सैलरी में होगा 40 हजार का इजाफा
Agro Haryana, New Delhi केंद्र सरकार ने केंद्रीय सार्वजनिक क्षेत्र उद्यमों (CPSE) के कर्मचारियों को बड़ी खुशखबरी दी है. वित्त मंत्रालय ने CPSE के कर्मचारियों का महंगाई भत्ता (डीए) बढ़ाने की घोषणा की है.

डीए में वृद्धि 1992 पे स्केल के औद्योगिक महंगाई भत्ता (आईडीए) पैटर्न के तहत आने वाले उन कर्मचारियों की होगी, जो वर्तमान में बोर्ड स्तर रैंक, बोर्ड स्तर रैंक से नीचे की रैंक और सुपरवाइजर स्तर के हैं. जारी ज्ञापन के अनुसार उपरोक्त अधिकारियों को बढ़ा हुआ महंगाई भत्ता (डीए)  दिया जाएगा. ये डीए की दर 39.2 प्रतिशत है.

किसे कितने बढ़कर मिलेगा डीए

जिन सरकारी कर्मचारियों का मूल वेतन 3500 रुपये प्रतिमाह है. एक जुलाई से उन्हें वेतन का 701.9% डीए दिया जाएगा, जो कि 15,428 रुपये होगा. वहीं 3500 रुपये से अधिक और 6500 रुपये तक प्रतिमाह मूल वेतन वालों को वेतन का 526.4% और न्यूनतम 24,567 रुपये मिलेगा.

इसके अलावा 6500 रुपये से अधिक और 9500 रुपये तक प्रतिमाह मूल वेतन वालों को 421.1% (न्यूनतम 34,216 रुपये), जबकि 9500 रुपये से अधिक मूल वेतन वाले कर्मचारियों को 351% या न्यूनतम 40,005 रुपये मिलेगा.

इससे पहले 4 फीसदी डीए बढ़ने की संभावना जताई गई थी. केंद्रीय कर्मचारियों और पेंशनरों को जल्द कोई खुशखबरी मिल सकती है. श्रम मंत्रालय द्वारा जारी AICPI Index के मई के आंकड़े के बाद कुल अंक 134.7 और स्कोर 45.58% पहुंच गया है.

ऐसे में अब जुलाई में 4 फीसदी डीए का बढ़ने की संभावना हटाई जा रही है. इस तरह डीए बढ़कर 46% हो जाएगा. इसका लाभ 1 करोड़ कर्मचारियों, अधिकारी और पेंशनर्स को मिलेगा.

रक्षाबंधन के आसपास किसी भी समय यह खुशखबरी कर्मचारियों को मिल सकती है. बता दें कि जनवरी और जुलाई के महीने में केंद्रीय कर्मचारियों का डीए बढ़ाया जाता है, डीए कितना बढ़ेगा, वह श्रम विभाग द्वारा जारी एआईसीपीआई इंडेक्स (AICPI Index) के आंकड़ों पर निर्भर करता है, जो हर महीने जारी किए जाते हैं.
 

Around The Web

Latest News

Trending News

You May Also Like