Agro Haryana

Chanakya Niti : शादीशुदा महिलाएं भूलकर भी न करें ये काम, वरना वैवाहित जीवन हो जाएगा खराब

Chanakya Niti : चाणक्य की नीतियों का पालन करके बहुत से लोग सफलता की सीढ़ियां चढ़ते है। क्योंकि उन्होनें अपने जीवन में ऐसी कई बातों का जिक्र किया है जिनके अपनाकर आप खुशहाल जीवन बिता सकते है। आचार्य चाणक्य के अनुसार अगर आप अपने दांपत्य जीवन में खुशहाली चाहते हैं तो आपको बहुत सी बातों का ध्यान रखना होगा तभी आप अपने वैवाहित जीवन को खुशहाल बना सकते है।     

 | 
 शादीशुदा महिलाएं भूलकर भी न करें ये काम, वरना वैवाहित जीवन हो जाएगा खराब   

Agro Haryana, Digital Desk- नई दिल्ली : आचार्य चाणक्य ने अपने नीतिशास्त्र में जीवन में सफलता पाने के कई तरीके बताए हैं। इसके साथ ही उन्होंने यह भी बताया है कि खुशहाल जीवन के लिए व्यक्ति को क्या करना चाहिए ।

आचार्य चाणक्य ने निजी संबंधों में किस तरह की सावधानी रखनी चाहिए, इस बारे में चाणक्य नीति में विस्तार से जिक्र किया है। चाणक्य नीति ग्रंथ (Chanakya Niti) में आचार्य ने बताया है कि महिलाओं को शादी के बाद अपने व्यवहार में कुछ जरूरी बदलाव कर लेना चाहिए।

ये बदलाव उनके वैवाहिक जीवन पर अच्छा प्रभाव डालते हैं। इसके अलावा पत्नी को कुछ बातें अपने पति व ससुराल वालों से हमेशा छुपाकर रखना चाहिए।

पति-पत्नी होते है एक दूसरे के पूरक 

आचार्य चाणक्य (Acharya Chanakya) ने अपनी नीति में कहा है कि पति-पत्नी दोनों एक-दूसरे के पूरक होते हैं, लेकिन पत्नियों को कुछ बातें भूलकर भी अपने पति के सामने नहीं कहना चाहिए। इससे रिश्तों में समस्या पैदा हो जाती है। यदि आप वैवाहिक जीवन में खुशहाल रहना चाहती हैं तो आचार्य चाणक्य की इन बातों को जरूर अपनाएं।

परिवारवालों की न करें बुराई

यह बात सबसे ज्यादा ध्यान देने वानी है कि महिलाओं को पति के सामने कभी भी अपने ससुराल वालों की बुराई नहीं करना चाहिए। इसके अलावा अपने पिता के घर के रहस्यों को भी उजागर नहीं करना चाहिए।

भूलकर भी पति से ऐसी बातें शेयर नहीं करना चाहिए, जिससे दोनों परिवारों के बीच किसी भी तरह की दरार पैदा हो। इसका पति-पत्नी के रिश्ते (husband-wife relationship) पर बुरा असर पड़ सकता है।

पति की कमाई में से करे बचत

आचार्य चाणक्य नीति में बताया गया है कि पत्नी को हमेशा अपने पति की कमाई या खुद की कमाई (savings from earnings) का कुछ हिस्सा बचाना चाहिए। परिवार के कठिन समय में यह पैसा बहुत राहत देता है।

दूसरे मर्दो से न करें अपने पति का कंपैरिसन

अगर आप वैवाहिक संबंधों में शांति (peace in marital relations) चाहती है तो पत्नी को अपने पति की तुलना किसी दूसरे पुरुष से नहीं करनी चाहिए। ऐसा करने से पति के आत्मसम्मान को चोट पहुंच सकती है। वैवाहिक जीवन में तनाव पैदा हो सकता है।

अपने क्रोध पर रखें कंट्रोल

चाणक्य की नीति (Chanakya's Niti) के अनुसार, पति-पत्नी को हमेशा एक-दूसरे के प्रति विनम्र व्यवहार रखना चाहिए। जो क्रोध पर नियंत्रण रखता है, उसका वैवाहिक जीवन सफल रहता है।

डिसक्लेमर

'इस लेख में दी गई जानकारी/सामग्री/गणना की प्रामाणिकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। सूचना के विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/धार्मिक मान्यताओं/धर्मग्रंथों से संकलित करके यह सूचना आप तक प्रेषित की गई हैं। हमारा उद्देश्य सिर्फ सूचना पहुंचाना है, पाठक या उपयोगकर्ता इसे सिर्फ सूचना समझकर ही लें। इसके अतिरिक्त इसके किसी भी तरह से उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता या पाठक की ही होगी। Agro Haryana इसकी पुष्टि नहीं करता है। 

 
WhatsApp Group Join Now

Around The Web

Latest News

Trending News

You May Also Like