Agro Haryana

CBI Raid: रिटायर अफसर के घर सीबीआई की छापेमारी, ज्वेलरी के साथ मिला कुबेर का खजाना

CBI Raid: हाल ही में CBI की टीम ने रिटायर अधिकारी के घर पर छापामारी करते हुए जांच में जुट गई है। जहां जांच में टीम को घर से करीब 17 किलोग्राम सोना चांदी के साथ साथ करीब डेढ़ करोड़ रुपये का कैश मिला है। तो चलिए जानते हैं पूरा अपडेट-
 | 
CBI Raid: रिटायर अफसर के घर सीबीआई की छापेमारी, ज्वेलरी के साथ मिला कुबेर का खजाना

Agro Haryana, New Delhi - केंद्रीय जांच एजेंसी सीबीआई (Central Bureau of Investigation ,CBI ) ने एक बड़ी कार्रवाई को अंजाम देते हुए रेलवे से सेवानिवृत अधिकारी प्रमोद कुमार जेना (Pramod kumar jena) की अकूत संपत्ति का खुलासा किया है. 

जेना के आवास सहित अन्य लोकेशन पर छापेमारी की तो सीबीआई के अधिकारियों के भी होश फाख्ता हो गए. जांच -पड़ताल के दौरान करीब 17 किलोग्राम ज्वेलरी (अनुमानित बाजार मूल्य करीब साढे नौ करोड़ रुपये), करीब एक करोड़ 57 लाख की नगदी , करीब पौने पांच करोड़ का फिक्स्ड डिपॉजिट सहित करोड़ों रुपये की प्रॉपर्टी के दस्तावेजों  देखकर उनकी आंखें खुली रह गई.

इसके साथ ही सीबीआई ने औपचारिक पर ये भी बताया कि इस आरोपी का और उसके परिजनों के नाम पर आठ बैंक लॉकर (Bank locker) भी हैं जिसे खोला जाना अभी बाकी है. आरोपी प्रमोद कुमार जैना भारतीय रेलवे से सेवानिवृत्त अधिकारी रहे हैं. वो 1989 बैच के अधिकारी (Principal Chief Operation Manager (IRTS) रहे हैं . 

प्रमोद कुमार जेना भुवनेश्वर में कार्यरत थे. नौकरी के दौरान उन्होने करीब एक करोड़ 92 लाख 21 हजार रुपये अर्जित किए लेकिन फिलहाल अभी मौजूदा रकम और संपत्तियों को देखकर एक अनुमान लगाया जा रहा है कि उनकी आय से करीब 59.09 फीसदी ज्यादा कमाई उन्होंने की है. सीबीआई के मुताबिक एक जनवरी 2005 से लेकर 31 मार्च 2020 के दौरान अवैध तौर पर कमाई ज्यादा की गई है .

सीबीआई की टीम जब इस मामले में सर्च ऑपरेशन को अंजाम दे रही थी तब तफ्तीशकर्ताओं को आठ लॉकर की जानकारी मिली, जिसमें की तीन लॉकर तो आरोपी प्रमोद कुमार जेना की पत्नी के नाम से हैं. जबकि पांच अन्य लॉकर किसी अन्य के नाम से हैं, जो नाम उनके परिवार के सदस्य भी नहीं हैं. अब सीबीआई ये भी जांच पड़ताल कर रही है कि वो बेनामी लॉकर का असली मालिक कौन है ? 

क्या प्रमोद जेना ही अन्य लोगों के नाम से लॉकर की सेवा ले रहा था या कोई और बेनामी लॉकर धारक है . जांच एजेंसी को ऐसा लग रहा है की जब लॉकर के मालिक के सामने इसे खोला जाएगा तब उससे कई महत्वपूर्ण दस्तावेज और काफी  संपत्ति को जब्त किया जा सकता है .

आरोपी के साथ -साथ उसकी पत्नी और बेटियों की भी बढ़ सकती है मुश्किलें 

सीबीआई के अधिकारी के मुताबिक आरोपी प्रमोद कुमार जेना के आवास सहित अन्य लोकेशन पर जब जांच -पड़ताल की जा रही थी तब लाखों -करोड़ों रुपये के लेनदेन आरोपी प्रमोद कुमार जेना ने अपनी दो बेटियों और पत्नी के नाम से किया है. 

यहां तक कि कई संपत्तियों को खरीदने में भी उन लोगों का नाम का प्रयोग किया गया है, जिसका जिक्र न तो प्रमोद कुमार जेना या उनके परिजनों द्वारा अपने इनकम टैक्स फाइल करने के दौरान किया था.

पत्नी हाउस वाइफ लेकिन लाखों का लेनदेन

आरोपी की पत्नी का नाम रोसिना जेना और उनकी दोनों बेटियों का नाम है दिव्या जेना और प्रिया जेना है . सीबीआई द्वारा दर्ज एफआईआर में इस बात का जिक्र है की रोसिना जेना हाउसवाइफ है, लेकिन उसके बैंक अकाउंट में लाखों रुपये का संदिग्ध लेनदेन और उनके नाम पर करोड़ों रुपये की प्रॉपर्टी है. इसके साथ ही आरोपी की बड़ी बेटी मुंबई में बैंककर्मी है. 

जबकि छोटी बेटी प्रिया जेना पश्चिम बंगाल से मेडिकल की पढ़ाई की है. वो दोनों भी इनकम टैक्स फाइल करती हैं लेकिन इनकम टैक्स फाइल करने के वक्त उन संदिग्ध लेनदेन का बहुत साफ तरीके से जिक्र भी नहीं किया गया है . लिहाजा कहा जा सकता है कि आने वाले वक्त में उनकी भी मुश्किलें बढ़ सकती है .

Around The Web

Latest News

Trending News

You May Also Like