Agro Haryana

Bihar News: यूपी में बिजली उपभोक्ताओं के लिए बड़ी खबर, भुगतान नहीं करने वाले के काटे जाएंगे कनेक्शन

Bihar News: आज मानव जीवन में बिजली का इस्तेमाल करना बहुत जरुरी हो गया है। लेकिन काफी संख्या में बिजली उपभोक्ताओं ने साल भर से बकाया बिल का भुगतान नहीं किया है। ऐसे में हाल ही में बिजली उपभोक्ताओं के लिए बड़ी खबर सामने आई है।  यूपी में बिजली का भुगतान नहीं करने वाले के कनेक्शन काटे जाएंगे। चलिए नीचे खबर में जानते है विस्तार से-
 | 
Bihar News: यूपी में बिजली उपभोक्ताओं के लिए बड़ी खबर, भुगतान नहीं करने वाले के काटे जाएंगे कनेक्शन

Agro Haryana, Digtal Desk- नई दिल्ली: बिजली विभाग(electricity department) द्वारा मार्च महीने में वसूली अभियान तेज किया गया है। इसके लिए एस ड्राइव चलाया जा रहा है। बिजली बिल नहीं देने वाले गांव एवं उपभोक्ताओं को चिन्हित कर कनेक्शन काटा जा रहा है।

कार्यपालक अभियंता सुनील कुमार ने बताया कि जिले में 21 हजार उपभोक्ताओं के पास विभाग का 46 करोड़ रुपये बिजली बिल बकाया (electricity bill outstanding) है।

इन उपभोक्ताओं ने पिछले साल भर से बकाया बिल का भुगतान नहीं किया है। राशि वसूली के लिए अभियान चलाया जा रहा है, भुगतान नहीं करने पर कनेक्शन काटा जा रहा है।

22 गांव की काटी गई बिजली- 

उन्होंने बताया कि बिजली बिल का भुगतान नहीं करने वाले जिले के 22 गांव की बिजली सामूहिक रूप से काट दी गई है। जैसे -जैसे बिल भुगतान हो रहा है कनेक्शन जोड़ा जा रहा है। कुछ गांवों का कनेक्शन जोड़ा गया है।

रतनी प्रखंड के हड़पुर, काजी चक, खैरूचक, सदर प्रखंड के महदा, शिवा बिगहा, सलेमपुर, हरपुरा, बाजितपुर समेत अन्य प्रखंडों के गांवों का बिजली कनेक्शन काटा गया है। उन्होंने सभी उपभोक्ताओं से अपील की है कि अविलंब बिजली बिल का भुगतान कर दें, अन्यथा कार्रवाई होगी।

पंचायती राज विभाग का 4.5 करोड़ बकाया

बिजली बिल का भुगतान नहीं करने वालों में कई सरकारी विभाग भी हैं। नगर परिषद के पास दो करोड़ 82 लाख रुपये का बकाया है। ओबीसी छात्रावास पर 81 लाख रुपये बकाया है।

जिला पंचायती राज विभाग पर सबसे अधिक चार करोड़ 54 लाख रुपये बकाया है। यह बकाया विभिन्न वार्डों में संचालित नल जल योजना का है। पीएचईडी पर करीब दो करोड़ का बकाया था, जिसका भुगतान हो जाने की जानकारी बिजली विभाग द्वारा दी गई है।

हर घर नल का जल से भी आपूर्ति बंद

एक साथ पूरे गांव का बिजली कनेक्शन काट जाने से पेयजल के साथ-साथ किसानों के समक्ष पटवन का गंभीर संकट उत्पन्न हो गया है। गांव वाले पेयजल के लिए चापाकल पर आश्रित हो गए हैं। नल जल का पानी भी बंद हो गया है। दरअसल, अब अधिकांश गांव -घरों में निजी चापाकल नहीं है।

लिहाजा, दो-तीन सार्वजनिक चापाकल से ही पूरे गांव के लोगों को जैसे-तैसे काम चलाना पड़ रहा है। सुबह से चापाकल पर पानी लेने के लिए लोगों की कतार लग जाती है।

काफी इंतजार के बाद लोगों को पानी मिल पाता है। गांवों में पटवन का काम पूरी तरह ठप हो गया है। शौच के लिए लोग आहर-पइन का रुख करते हैं।

WhatsApp Group Join Now

Around The Web

Latest News

Trending News

You May Also Like